IPC Section 498 in Hindi - आईपीसी सेक्शन 498 क्या है ? - Legal Gyan | Law Gyan | Legal Knowledge | Knowledge of Law

Information About Indian Law's. Legal Gyan. Knowledge of Legal Sections.

Top Topics

Thursday, November 29, 2018

IPC Section 498 in Hindi - आईपीसी सेक्शन 498 क्या है ?




IPC Section 498 in Hindi - आईपीसी सेक्शन 498 क्या है ?



भारतीय दंड संहिता की धारा 498 क्या है?

विवाहित स्त्री को अपराधिक आशय से फुसलाकर ले जाना है या निरुँध रखना ।

आईपीसी सेक्शन 498 के अंतर्गत जो कोई किसी स्त्री को, जो किसी की पत्नी है और वह यह जानता हो या विश्वास करने का कारण रखता है तथा वह उस स्त्री को उसके पति से दूर अपने पास या किसी अन्य के पास रखता है या उसकी देखरेख करता है या उसे फुसलाकर फैसला कर उसके साथ गैर संबंध ( Sex ) बनाने का प्रयास करता है या ऐसा मंशा रखता है तो वह आईपीसी सेक्शन 498 के अंतर्गत दोषी पाया जाएगा ।

IPC Section 498 in Hindi
IPC Section 498 in Hindi


सजा -  दो वर्ष तक का कारावास या जुर्माना या दोनों से भी दंडित किया जा सकता है ।

साधारण शब्दों में - अगर कोई आदमी किसी विवाहित स्त्री को उसके पति से दूर रखता है या विरोध उत्पन्न करता है तथा वह यह सब इस आशय से करता है कि वह उस स्त्री को बहला-फुसलाकर उसे अपने साथ संभोग करने के लिए मना लेगा IPC SECTION 498 के अंतर्गत उसके द्वारा उस स्त्री को अपने साथ रखने के लिए बहलाना मात्र ही अपराध है तथा उसे न्यायालय (COURT) द्वारा 2 साल तक की जेल या जुर्माना ( जो न्यायालय निर्धारित करेगा ) या दोनों से दंडित किया जाएगा ।

यह एक जमानती, गैर-संज्ञेय अपराध है और किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय है।यह अपराध पीड़ित पति और पत्नी के द्वारा समझौता करने योग्य है।

अगर आपको पोस्ट अच्छा लगा हो या आपके काम का हो तो या आपको कोई हेल्प लेनी होतो आप हमे निचे दिए गए लिंक्स पर फॉलो करके हमसे अपना सवाल पूछ सकते है 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad